Question Poem – अनुत्तरित प्रश्न – Poem in Hindi Language

Question Poem – अनुत्तरित प्रश्न – Poem in Hindi Language

Question Poem

जलते रावण का
पुतला फाड़
निकली उसमे से
एक दहाड़
किसकी शामत आई है
ये किसने आग लगाई है
आख़िर तुम में है
राम कौन
अनुत्तरित प्रश्न
प्रतिध्वनित हुआ
कोलाहल फिर हो गया मौन
चुप्पी का चढ़ता देख आवरण
रूकती सांसों को थाम कुम्भकरण
गिरते रावण का पकड़ हाथ
बोला बतलाते हम तुम्हें तात
इनमे कोई भी गैर नही
इनका हम से है बैर नही
ये अपने अंदर से हमको
खत्म नही कर पाते हैं
हमसे मिलने जन समूह में
बार बार सब आते हैं
ये सब अपने से लगते हैं
अपने ही आग लगाते हैं

Read more:

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pin It on Pinterest