Tag: God Poetry

Mazak Poetry – ए ख़ुदा ये क्या मजाक है? – Hindi Kavita

Mazak Poetry – Hindi Kavita Mazak Poetry ए ख़ुदा ये क्या मजाक है लोग तेरा ही नाम पूछे है कहा रहता है तू पेहचान पूछे है ए ख़ुदा ये क्या मजाक है…. कोख से जो निकले तो माँ ख़ुदा है बचपन से जवानी पिता ख़ुदा है पूरी जिंदगी पैसा ख़ुदा है पर कब्र जो करीब

Rab Poem – कुछ क्या मांगू रब से – Ghazal Poem

Rab Poem – Ghazal Poem Rab Poem कुछ क्या मांगू रब से थोड़ी खुशियां मांग ली कुछ आँगन मांग ली कुछ उसके सूरज मांग लि। कुछ क्या मांगू रब से…….. एक दिल था कुछ गुब्बारे थे दर बदर भटकता है दिल शहर मैखाना घूमता है दिल इस दिल कि कसूर क्या है धड़कने के बहाना

Poem on God in Hindi Language – नीलकंठ – Poem on Shivratri in Hindi

Poem on God in Hindi Language – Poem on Shivratri in Hindi Poem on God in Hindi Language हर दिन पी कर विष के घूँट विचरण कर रहा है इंसान बेचैन सा न निगल सकता है न उगल सकता है उसे कंठ में रोक कर बन जाता है नीलकंठ सा बस अभिशप्त है, जीने को

Poem on Shivratri in Hindi – हे शिव – Shivratri Poem in Hindi

Poem on Shivratri in Hindi – Shivratri Poem in Hindi Poem on Shivratri in Hindi हे शिव ! तुम इतने अलग हो आडम्बर से कि लगते हो निरन्तर अपने से भांग, धतूरा, गण, जानवर पर्वत, जंगल और ज़हर यहां तक कि तुम्हारा प्रतीक अस्वीकार्य की सारी व्यंजनाएं पाती हैं नई पहचान तुम्हारी महाशक्ति में तुम्हारा

Oh God Poem – हे ईश्वर – Short Poem on Prayer

Oh God Poem – Short Poem on Prayer Oh God Poem अमरत्व की कल्पना से मनुष्य ने गढ़ लिया कुछ ईश्वर सा और प्रतिष्ठित कर दिया अपने रूप को सर्वशक्तिमान सा प्रार्थना के पटल पर परन्तु पालकर घृणा और द्वेष वंचित हो गया स्वयं अपनी रचना के ईश्वरत्व से और अब जी रही है निरंतर

Pin It on Pinterest