Tag: Heart Poetry

Dushman Poetry – ये दिल भी दुश्मन है यारों – Dil Poem

Dushman Poetry – Dil Poem Dushman Poetry ये दिल भी दुश्मन है यारों बिलकुल गैरों कि तरह कभी भी साथ नही देता किस्मत कि तरह। जुबान से निकले हर लफ्ज़ ये नकारे मनमानी है करती मौसम कि तरह जायज नही हर वक़्त लेकिन जिद करती रहती बच्चो कि तरह। दिल तो नही कोई और शक्सियत

Masoom Dil – मासूम सा दिल है – Ghazal Poem In Hindi

Masoom Dil – Ghazal Poem In Hindi Masoom Dil मासूम सा दिल है फिर भी दरमियाँ सा लगता है तुम सामने रहती हो फिर भी नज़रे ख़वाब सा लगता है। देखता हूँ तुम्हे कोई हसीं मूरत हो जैसे फिर भी यकीं पे ज़ोर सा लगता है। किस के लिखे ग़ज़ल हो तुम गुनगुनाना अब आदत

Dhadkan Poetry – जब तक धड़कन दिन में साज़ – Ghazal Poem

Dhadkan Poetry – Ghazal Poem Dhadkan Poetry जब तक धड़कन दिन में साज़ बनेगा मैं सांस लूंगा गीत जिंदगी तो बनेगा। एक मजहब होगा इंसानियत बनके सारे लहू के रंग तब हीना ही बनेगा। हर कोख में किलकारी होगी हर गोद माँ का इंसान बनेगा। धरती सोना बन जायेगी आसमां हर छत पर हँसता दिखेगा।

Dil Poem – मैं कैसे क्या करता – Question Poetry

Dil Poem – Question Poetry Dil Poem मैं कैसे क्या करता एक कागज़ का दिल था लफ्ज़ कोरे सुर्ख जमीं की तरह सिलवटे पड़े थे दाग बन गए मैं कैसे क्या करता………………..!! यादों के पुलिन्दे बनाकर वो बड़ी वाली पूल के निचे छोड़ आया हूँ गर पास रहते बार बार दस्तक देते खामखा दिल बैठ

Human Heart Poem – दिल के पुर्जे पुर्जे खोले – Heart Poem

Human Heart Poem – Heart Poem Human Heart Poem दिल के पुर्जे पुर्जे खोले देखा हर पुर्जे मे यादों के जंग परे थे आँगन के टूटे चापाकल के पानी से देर तलक धोये फिर जलते धुप मे सुखाये शाम को उठाके पुराने संदूक में बन्द रख आये। घर से निकले शाम को सोचा उस पुराने

Broken Heart Poem – जल गया दिल – Sad Poems About Love

Broken Heart Poem – Sad Poems About Love Broken Heart Poem जल गया दिल फिर भि पूछते हो धुयां सा है पिली जिंदगी फिर भि पूछते हो नीला सा है! शहर मे आँगन मिलते नही बिरान सा है पत्थर है कुए कोइ दरिया नही प्यासा सा है! तूफां कि अब जरुरत क्या है सब उजरा

Do Dil Mil Rahe – दो दिलों के मेल – Poem on Suffering

Do Dil Mil Rahe – Poem on Suffering Do Dil Mil Rahe दो दिलों के मेल में नौटंकियां, दो दलों की ठेल में नौटंकियां| चाहता है वो कि हो जाएँ शुरू, दोगलों की, जेल में नौटंकियां| इश्तिहारों में बची बस शुद्धता, हैं पतंजलि तेल में नौटंकियां| तेजपालों से ज़मानत पा गए, साधुओं की बेल में

Heartbeat Poem – धड़कने रुक जाती है Heart Touching Love Poem

Heartbeat Poem – Heart Touching Love Poem Heartbeat Poem धड़कने रुक जाती हैं, नज़रे ठहर जाती हैं, जब पास से तू मेरी जां, चुपचाप गुज़र जाती। तू क्या जाने प्यार में तेरे, कितना मैं तड़पा हूँ, दिन को चैन न आए मुझको, रात को न ही मैं सोता हूँ, चैन नहीं आता मुझको, नींद नहीं

Pin It on Pinterest