Tag: Love Poetry

Confusion Poems – पहेली हो या कोई अनसुनी – Ghazal Poem

Confusion Poems – Ghazal Poem Confusion Poems पहेली हो या कोई अनसुनी, जो भी हो तुम दिल में बस गयी। एक चाँद की कसम रात की रानी, चांदनी भी तुमसे कम पर गयी। पहेली हो या कोई अनसुनी, जो भी हो तुम दिल में बस गयी। अब फीका सा लगे, हर सुबह तेरे बिन, तू

Mirror Poem – ये चाँद तेरा आइना देखा Ghazal Poem About Love

Mirror Poem – Ghazal Poem About Love Mirror Poem ये चाँद तेरा आइना देखा, इस जमीं की है, उस में तुझको देखा !! ये चाँद…… उसके गेशुओ में बादल आवारा देखा, उसके रंगत में चाँदनी खिलते देखा, बस एक फर्क है उसमे क्या कहु तुझको!! बेदाग़ यूँ हुस्न खुदको जलते देखा। ये चाँद तेरा आइना

Said Poem – यूँही कह दिया था – Love Poem for Her in Hindi

Said Poem – Love Poem for Her in Hindi Said Poem यूँही कह दिया था तेरे बेबाक पलके, ना आना तुम फिर कभी, ना दिखाना तुम्हारे साये। ना आना कभी छत के मुंडेर पर, ना आना कोई भी चाँद के बहाने, यूँही कह दिया था तेरे बेबाक पलके। तेरे होंठ में कपकपी सी थी, चेहरे

Sunshine Poem – रोज़ मैं ये धुप को छत – Love Poem for Her

Sunshine Poem – Love Poem for Her Sunshine Poem रोज़ मैं ये धुप को छत पे तेरे बाल सुखाते देखता हूँ, किस्मतवाला इसी बहाने तेरे बालों मे बादल संजोता है। किस्मत कुछ इस हवाओं कि कम नही, तेरे बालो मे झूले सजाता है। चाँद कैसे पीछे रहता, वो तो सारा चांदनी जैसे तुझपे लुटा ता

Fingers Poem – हर शाम रेत पर उँगलियों – Romantic Love Poem

Fingers Poem – Romantic Love Poem Fingers Poem हर शाम रेत पर उँगलियों पे एक नाम लिखता, जानते थे रेत कि दोस्ती अच्छी नही, पर क्या करता, दिल पे लिखता जो मिट ता नही। एक सूरज बस रात कि दुरी रखता है, चाँद को देखो चौदवी कि हिसाब रखता है, पर दिल पर दाग सदियों

Khwabon Ki Baat – तुम अपने ख्वाबों कि – Love Poetry in Hindi

Khwabon Ki Baat – Love Poetry in Hindi Khwabon Ki Baat तुम अपने ख्वाबों कि बात करते हो तो ठीक है, वरना मेला तो नही दिल में रिस्तों के राख मिलेंगे। अगर तुम वक़्त की बात करते हो तो ठीक है वक़्त कभी ठहरते नही मिलेंगे। हम ढल ते है वक़्त के आईने में फुरसत

Feeling Poem – उसकी हँसी महसूस होती है – Poem on Loneliness

Feeling Poem – Poem on Loneliness Feeling Poem उसकी हँसी महसूस होती है उसकी दुरी भी खलिश होती है। ऐसा कोई सावन नही देखा जिसमे उनकी भीगी याद ना हो। ऐसा कोई शहर नही देखा जिसमे उनकी चर्चा ना हो। बरी मीठी है ये सर्द रातों के गर्माहट ऐसा कोई पुरबाई ना देखा जिसमे उनकी

Shabnam Poem – कितने मासूम शबनम परे – Ghazal Poem In Hindi

Shabnam Poem – Ghazal Poem In Hindi Shabnam Poem कितने मासूम शबनम परे है जमीं पे हम देखते भूल जाते है। फुर्सत में यहा ज़ीस्त नही अब हर नफ़स में जैसे आग लगी है। आज आकाश छुपता हैं दिलों में कई ख्वाब टूटता है दिलों में , किसीने नियत ना जानी तूफां के सब घर

Eyes Poem For Her – तेरे नैनो के रंग में – Love Poem In Hindi

Eyes Poem For Her – Love Poem In Hindi Eyes Poem For Her तेरे नैनो के रंग में रंगा लूं खुदको हर सुबह जगा लूं तेरे पलकों में मुझको। ख्वाहिश इतना है ना चूमने दू धुप तेरे माथे को मुझसे पहले के तेरे पलके खुले और तू देखे खुदको मेरे आँखों में मुझसे पहले। तेरे

Hide Poem – छुपते छुपाते आये – Romantic Love Poem in Hindi

Hide Poem – Romantic Love Poem in Hindi Hide Poem छुपते छुपाते आये बचते बचाते आये पर निगाहे मिलते ही कत्लेआम हो गया। गिडते गिड़ाते आये मिटते मिटाते आये पर जिंदगी तुझसे मिलते ही वक़्त कमाल हो गया। कुछ लफ्ज़ो में कमी आयी कुछ आसमां में नमी आयी कुछ ख्वाबों पर बंदिशें थी तुझसे मिलते

Heart Touching Poem – कोई शरारत ना करना – Love Poem

Heart Touching Poem – Love Poem Heart Touching Poem कोई शरारत ना करना दिल इसबार हरबार कि तरह ये रोज़ रोज़ आदत बदलना अच्छा नही लगता। तुझे क्या है आखिर धड़कना लाज़मी है बेशर्मों कि तरह ये रात रात करवटें लेना कुछ अच्छा नही लगता। ना सला ना मशवरा मनमानी है तेरी बस एक मुश्ताक़

Sky Poems – देख आसमा कैसे टूट रहा है – Hindi Poetry on Love

Sky Poems – Hindi Poetry on Love Sky Poems देख आसमा कैसे टूट रही है हमे उसके जैसे टूट लेने दे देख बारिश कैसे जमीं से मिल रही है हमे तुझसे उस तरह मिलने दे। देख हवाओं मे पत्ते कैसे गा रही है मुझे तुझको वैसे गा लेने दे इन फ़िज़ाओं मे रंग बदलीं बदलीं

Bangles Poem – तेरे चूड़ियों की – Love Poetry in Hindi Lyrics

Bangles Poem – Love Poetry in Hindi Lyrics Bangles Poem तेरे चूड़ियों की खनक तु पास है तेरे बालों की महक तु पास है। मेरे रूह मे ललक तु पास है ये जिंदगी ये चहक तु पास है। मेरे धड़कनो मे धधक तु पास है मेरे ख्वाबों मे झलक तु पास है। मेरे आँखों मे

Eyes Poem – इन बेबाक आँखों मे – Love Poetry in Hindi

Eyes Poem – Love Poetry in Hindi Eyes Poem इन बेबाक आँखों मे कई समंदर गहरा ना समझे कभी बस डूबता चला गया। इन खामोशियों मे तेरा मासुम चेहरा ना समझे कभी बस खोता चला गया। ना समझे कभी सवाल ना बोले लफ्ज़ो की तुमने जबाब भि ना माँगा मैँ कुछ और समझता चला गया!

Pin It on Pinterest