Advice Poem – आग अगर है तो – Poem About Life in Hindi

Advice Poem – Poem About Life in Hindi

Advice Poem

आग अगर है तो बुझा लो,
दिल मे बादल को बुला लो।

ज़िंदा रखना हो मरासिम तो,
अना को मुट्ठी में दबा लो।

फूल मुहब्बत का सलीका हैं,
अपने आंगन में सजा लो।

तुम उदासी का सबब हो तो,
तुम ही आ कर के मना लो।

हम तो पीते हैं, पिलाते हैं,
तुम भी रिन्दों का मज़ा लो।

हमको आँसू की तलब ऐसी,
तुम भी चाहो तो रुला लो।

हम गुनहगार न हों दुनिया के,
हम को पहले ही छुपा लो।

सबको आगाह किया मौसम ने,
शजर टूटे भी तो उठा लो।

कितनी मुहब्बत से परोसा गया है,
तो क्या हुआ ज़हर है, खा लो।