Author: Balkrishan Umda Jani

Human Nature Poem – क्या जानना नहीं चाहोगे – Hindi Kavita

Human Nature Poem – Poem on Human and Nature Human Nature Poem क्या जानना नहीं चाहोगे? मैं कहाँ, किस हाल में हूँ, जीवित भी हूँ या फिर मर-खप गई हूँ। शायद तुम नहीं जानना चाहोगे। तुम तो पुरुष रूप में जन्म पाकर लिप्त हो मौके-बेमौके अपनी पौरुषता के एकाकी स्वांग रचने में। ओ पुरुष, मगर

Taj Mahal Poem – आज ताजमहल कहलाता है – Hindi Poem

Taj Mahal Poem – Hindi Poem Taj Mahal Poem जो आज ताजमहल कहलाता है ओ मुमताज़! क्या तुम जानती हो? तुम्हारी याद में बनवाया गया ताजमहल, जो आज कहलाता है ‘मुहब्बत का मक्का’, केवल तुम्हारी ही कब्रगाह नहीं है वहाँ तो दफ़्न हैं न जाने कितने फ़नकारों की कितनी ‘मुमताज़े’। यकीनन, ताज निशानी है मुहब्बत

Prem Poem In Hindi – प्रेम आग के लिए पानी है – Love Poem

Prem Poem In Hindi – Love Poem Prem Poem प्रेम आग के लिए पानी है, पानी के लिए आग है । बहुत विस्तृत है फ़लक प्रेम का जिसकी मात्र एक बूँद में समा सकती है समस्त सृष्टि । इतना व्यापक है प्रेम का वितान कि यह समतुल्य है ईश्वर के इसके विपरीत नफ़रत प्रतीक है

Swati Nakshatra – जीवन की इस बहती नदी – Journey Of Life

Swati Nakshatra – Journey Of Life Poem Swati Nakshatra जीवन की इस बहती नदी में गहरे पैठें हैं ज्ञान के मोती, समझदारी की सीपियां और भौतिक ऐश्वर्य की कौड़ियां निपट बुद्धि बन मत चुनना तुम भौतिक ऐश्वर्य की कौड़ियां, हो अति तर्कवान तुम मत करना एकत्रित ज्ञान के मोती भी मगर ओ मित्र! तुम लेना

Environment Poem – एक दिन सुखा दी जाएंगी – Poem on Beauty

Environment Poem – Poem on Beauty Environment Poem एक दिन सुखा दी जाएंगी सारी नदियाँ या फिर कर दी जाएंगी तब्दील नालियों में । एक दिन सजा दिए जाएंगे सारे पेड़ गगनचुम्बी इमारतों की बैठकों में या शयनकक्षों में । बस उसी एक दिन खो बैठेगा मानव टिटहरी का नाद, झींगुर का गीत और जंगल

Life Struggles Poem – अपने हिस्से की खुशियाँ – Life Poem

Life Struggles Poem – Life Poem Life Struggles Poem अपने हिस्से की खुशियाँ बांध कर रख दी हैं मैंने पोटली में जहाँ से उठाओ वहीं छोड़ जाना अपने हिस्से की सारी तकलीफ़ें संभाल लूँगी मैं इन सारी तकलीफ़ों को। औरत हूँ न! जन्मजात है मुझमें ग़म को ख़ुशी की तरह सीने से चिपकाए रखने की

Sister Poem in Hindi – ओ बहन – Sad Poem About Life in Hindi

Sister Poem in Hindi – Sad Poem About Life in Hindi Sister Poem मैं माँ हूँ उस सैनिक की जिसका सर काट कर ले गया पड़ौसी मुल्क़ का सैनिक । मगर मैं कोई सवाल नहीं करना चाहती सरकार से, मैं नहीं चाहती सहानुभूति समाज से भी, मैं कोई उम्मीद नहीं रखती समस्त पुरुष जाति से

Life Partner Poem – ओ मेरे जीवनसाथी – Poem on Freedom

Life Partner Poem – Poem on Freedom of Life Life Partner Poem ओ मेरे जीवनसाथी! हर परिंदा उड़ना चाहता है उन्मुक्त गगन में, पाना चाहता है अपने हिस्से का आसमान । यह अस्वाभाविक भी नहीं है क्योंकि अनंत नभ भी तो करता है आमंत्रित परिंदे को अपने पर तौलने के लिए। मैं चाहता हूँ कि

Do you Know Poem – जानते हो तुम क्या हो – Love Poem

Do you Know Poem – Love Poem Do you Know Poem जानते हो तुम क्या हो मेरे लिए या कि मैं क्या समझता हूँ तुम्हें तो सुनो! तुम वो सुनहरा ख़्वाब हो मेरी तन्हा रातों का जिसकी मात्र एक झलक पाने के लिए मैं खर्च कर सकता हूँ अपनी उम्र के तमाम दिन एक ही

Life Partner Poem – ओ मेरे जीवनसाथी – Poem in Hindi Language

Life Partner Poem – Poem in Hindi Language Life Partner Poem ओ मेरे जीवनसाथी! क्या तुम जानते हो मैं तुमसे कितना प्रेम करता हूँ ? उतना ही जितना कि बरगद का सूक्ष्म सा बीज करता है अपने भीतर लहलहाते विशाल वृक्ष से । उतना ही जितना कि एक माँ करती है अपने नवजात की मुस्कान

Advice Poem About Life – मैं यह नहीं चाहता – Poem on Faith

Advice Poem About Life – Poem on Faith Advice Poem मित्र ! मैं यह नहीं चाहता कि त्याग दो तुम अपनी महत्वाकांक्षा मगर एक मित्र के तौर पर तुम्हें यह सलाह जरूर देना चाहता हूँ कि तुम तय करो अपनी प्राथमिकताएं पहले । जानते हो क्यों क्योंकि प्राथमिकता विहीन व्यक्ति उस मीन की तरह होता

Emotions Poem – जिस दिन मैं न रहूँगा – Hindi Poem on Emotions

Emotions Poem – Hindi Poem on Emotions Emotions Poem जिस दिन मैं न रहूँगा तुम तलाशोगे मुझको मेरी बातों में, मेरे शब्दों में, मेरी कृतियों में मगर बीते समय सा विवश मैं फिर कभी न लौट पाऊँगा । जिस दिन मैं न रहूँगा । तुम तलाशोगे मुझको पंछियों के मधुर गीत में, प्रकृति के आह्लादित

Bravery Poem – किसी को कुछ दिया जाता है – Poem on Courage

Bravery Poem – Poem on Courage Bravery Poem प्रिये! जिस पात्र से किसी को कुछ दिया जाता है वह पात्र कभी खाली नहीं होता बल्कि वह पात्र तो सदा के लिए हरित हो जाता है क्योंकि वो कोई साधारण पात्र नहीं होता बल्कि वो तो कुबेर का पात्र होता है । प्रिये! स्वयं द्वारा सृजित

Hindi Language Poem – Unconditional Love Poem

Hindi Language Poem – Hindi Kavita Hindi Language Poem प्रिये! इस मृत्यु लोक में जन्म लेने वाला हर जीव होना चाहता है विशुद्ध प्रेम का अधिकारी मगर सच बताओ कि विशुद्ध प्रेम के ताप को सह पाने की क्षमता क्या होती है सबके पास? प्रेम के गणित में एक और एक दो नहीं होते बल्कि

Poem Love Hindi – इस ब्रह्मांड में – Poem on Hope and Faith

Poem Love Hindi – Poem on Hope and Faith Poem Love Hindi प्रिये! इस ब्रह्मांड में अनेकानेक भाव ऐसे हैं जिनको मापना असंभव है । कुछ ऐसे ही भाव हैं प्रेम और आस्था जिनको सटीक माप पाना संभव ही नहीं है । प्रिये ! प्रेम होता है अवरुद्ध शंका से और आस्था होती है बाधित

Love Silence Poem – प्रेम मौन साधना है – Love Poem Hindi

Love Silence Poem – Love Poem Hindi Love Silence प्रिये! प्रेम मौन साधना है, विश्व की किसी, भी भाषा के, शब्दकोश से फूटे, सर्वश्रेष्ठ शब्दों का समूह, और, अलंकारों, बिम्बों, प्रतीकों आदि, नाना आभूषणों, से सुसज्जित, काव्यशास्त्र से उपजी, तूणीरों से भी तीव्र, काव्यधारा भी नहीं, कर सकती, प्रेम की सटीक व्याख्या। प्रेम भावों का,