Life Journey Life Journey उगता सूरज ढ़लते देखा, दिन में चाँद निकलते देखा। आशाओं की बलि वेदी पर, अरमानों को कुचलते देखा। जीवन सुख का धाम नहीं है, दुख का भी यह नाम नहीं है। बिन सुबह कहीं हो जाएगें, ऐसी कोई शाम नहीं है। रंग को रंग बदलते देखा, उगता सूरज ढ़लते देखा। समय