Beauty Poem – ये रात क्यों घनी होगी – Poem on Love in Hindi

Beauty Poem – Poem on Love in Hindi

Beauty Poem

ये रात क्यों घनी होगी,
कुछ तो दुश्मनी होगी।

आग लगा लूँ खुद को,
तुझ में रोशनी होगी।

रोने लगी हैं दीवारें,
खून से सनी होगी।

इश्क फिर ज़ुदा कैसे,
योजना बनी होगी।

छत पे शोर कैसा है,
चंदा या चांदनी होगी।

क्या ख़ूब रंग है उसका,
वो दूध से बनी होगी।