Poem Love Hindi – इस ब्रह्मांड में – Poem on Hope and Faith

Poem Love Hindi – Poem on Hope and Faith Poem Love Hindi प्रिये! इस ब्रह्मांड में अनेकानेक भाव ऐसे हैं जिनको मापना असंभव है । कुछ ऐसे ही भाव हैं प्रेम और आस्था जिनको सटीक माप पाना संभव ही नहीं है । प्रिये ! प्रेम होता है अवरुद्ध शंका से और आस्था होती है बाधित

Love Silence Poem – प्रेम मौन साधना है – Love Poem Hindi

Love Silence Poem – Love Poem Hindi Love Silence प्रिये! प्रेम मौन साधना है, विश्व की किसी, भी भाषा के, शब्दकोश से फूटे, सर्वश्रेष्ठ शब्दों का समूह, और, अलंकारों, बिम्बों, प्रतीकों आदि, नाना आभूषणों, से सुसज्जित, काव्यशास्त्र से उपजी, तूणीरों से भी तीव्र, काव्यधारा भी नहीं, कर सकती, प्रेम की सटीक व्याख्या। प्रेम भावों का,

Son Poem in Hindi – ओ मेरे बेटे – Poem on Son by Father

Son Poem in Hindi – Poem on Son by Father Son Poem in hindi ओ मेरे बेटे! मैं नहीं दबाना चाहता तुम्हें अपेक्षाओं के बोझ तले अपेक्षाओं का बोझ तो परीक्षित के गले पड़े तक्षक से भी अधिक भयावह होता है। मैं चाहता हूँ कि अपना जीवन तुम अपनी आकांक्षाओं के अनुरूप जियो। मैं चाहता

Sad Love Poem – विलुप्त हो रही है कविता – Hindi Kavita

Sad Love Poem – Hindi Kavita Sad Love Poem विलुप्त हो रही है कविता, नदियों, पंछियों और, सच्चे मानव हृदयों की तरह, गूंगा, बहरा और अंधा विकास, लील रहा है स्वच्छ वायु, स्वास्थ्य और जीवन प्रत्याशा, शुक्र है कि, आबादी का एक धड़ा, अब करता है बात, जल, वायु और, प्रकृति संरक्षण की, मगर बेचारी

Heart Touching Love Poem – Love Poem In Hindi

Heart Touching Love Poem – Love Poem Hindi Heart Touching Love Poem मन के मोहल्ले में अब नहीं होती वो पहले सी बरसात जिसमें हम-तुम भीगा करते थे साथ-साथ अब नहीं चमकते उम्मीद के जुगनू काली, अनमनी सी उदास रातों में बीत जाया करता है सावन सूखा-सूखा सा मौसम-बेमौसम झड़ते रहते हैं प्रेम-वृक्ष से पत्ते

Motivational Poem – अदम्य इच्छाशक्ति – Faith Poem

Motivational Poem – Faith Poem Motivational Poem जब से गए हो तुम मैं बन गया हूँ पीड़ा का वो दस्तावेज जिस पर कर रहा है समय अपने हस्ताक्षर प्रतिदिन बीते दिन की पीड़ा समाप्त भी नहीं होने पाती कि होने लगती है आहट नए दिन की एक नई पीड़ा की मगर गहन पीड़ा से युक्त

Hindi Kavita – मेरी कविता – Poem on Writing – Hindi Poem

Hindi Kavita – Poem on Writing Hindi Kavita मैं और मेरी कविता पूरक हैं एक-दूसरे के मेरे हृदय के भावों को और मेरी मनोदशा को बखूबी पहचानती है मेरी कविता शायद तभी तो मेरे मनोभावों को आत्मसात कर शब्दों में बखूबी ढल जाती है मेरी कविता कुछ ऐसा है हम दोनों का सहअस्तित्व कि दोनों

Love Poem Hindi – Love Poem for Her in Hindi

Love Poem Hindi – Love Poem in Hindi Language Love Poem Hindi प्रिय! क्या याद है तुम्हें, मुझसे कहा था तुमने, ओ कवि! “तुम्हारी और मेरी, उम्र में इतना अधिक, अंतर है कि, हमारे प्रेम-संबंध को, परिवार, समाज, और तो और मैं, स्वयं भी कभी, स्वीकार न कर पाऊंगी, शायद तुम तौल रही थी, अतुलनीय

Light Poem – प्रकाश का महत्व – Poem on Light in Hindi

Light Poem – Poem on Light in Hindi Light Poem जब हम-तुम साथ-साथ हुआ करते थे तो कितने शिकवे हुआ करते थे कितनी शिकायतें हुआ करती थीं मगर फिर भी शिकायतों के पहाड़ के बीच से फूट पड़ा करता था समाधान का सोता जिसके शीतल जल में भीगकर हम-तुम हो जाया करते थे कुछ ऐसे

Future Poem – स्वर्णिम भविष्य – Poem About Future Life

Future Poem – Poem About Future Life Future Poem इतिहास कभी पीछा नहीं छोड़ता वह तो निरन्तर सवार रहता है वर्तमान की पीठ पर बेताल की तरह वर्तमान भले ही कितना ही समृद्ध क्यों न हो जाए मगर इतिहास करता रहता है कुंद वर्तमान की धार जिससे निरन्तर धीमी होती जाती है भविष्य की चाल

Life Poem Hindi – इस मृगतृष्णा में इसी तरह – Hindi Poem

Life Poem Hindi – Poem in Hindi Language Life Poem Hindi कितने वर्ष बीत चुके हैं पिघल चुके हैं न जाने कितने हिमखंड समय के और हम-तुम साथ-साथ नहीं हैं मैं तलाशता हूँ तुम में किसी और को और तुम तलाशते हो मुझमें किसी और को बात ये है कि हम दोनों तलाश रहे हैं

Sad Life Poem – दुःख का प्रहार – Sad Poetry About Life in Hindi

Sad Life Poem – Sad Poetry About Life in Hindi Sad Life Poem प्रिय तुम सदा पूछते रहे हो मुझसे सुख और दुःख का सार मगर व्यापक अध्ययन, मनन और अनुभव के बाद भी मैं न गढ़ सका सुख और दुःख की सटीक परिभाषा और न तय कर सका इनके अस्तित्व का सार आज भी

Gift Love Poem – Gift Poetry – सदैव उपहार हीन हूँ – Hindi Poetry

Gift Love Poem – Gift Poetry Gift Love Poem प्रिय आज तुम्हारा जन्मदिवस है मैं सोच-सोच कर थक गया मगर चुनाव न कर सका तुम्हारे लिए किसी श्रेष्ठ उपहार का आखिर कर भी कैसे पाता क्योंकि भौतिक मुद्रा से खरीदे गए श्रेष्ठ से श्रेष्ठ उपहार का भी भौतिकता से ओत-प्रोत रहना अवश्यंभावी है ऐसे में

Deep Thought Poetry – समानधर्मा नहीं होता -Thought Poetry

Deep Thought Poetry – Thought Poetry Deep Thought Poetry भवभूति! आश्चर्य नहीं जो रचना पड़ा समानधर्मा सिद्धांत तुम्हें आखिर करनी जो पड़ी थी तुमको 400 वर्षों से अधिक की कड़ी प्रतीक्षा अपना समानधर्मा पाने के लिए बड़ा मुश्किल है एक जीवन में अपना समानधर्मा पा पाना शूद्रक, डार्विन, टॉलस्टॉय, कीट्स और तुम से न जाने

Man and Woman Poem – पुरुष यदि प्रभात है – Life Poetry

Man and Woman Poem – Life Poetry in Hindi Man and Woman Poem पुरुष यदि प्रभात है तो नारी उषा है पुरुष यदि मेघ है तो नारी विद्युत है पुरुष यदि अग्नि है तो नारी ज्वाला है पुरुष यदि आदित्य है तो नारी प्रभा है पुरुष यदि तरु है तो नारी लता है पुरुष यदि