Betrayal Love Poem – Short Poem on Love in Hindi

Betrayal Love Poem – Short Poem on Love in Hindi

Betrayal Love Poem

चाहे वेबफा समझो,
चाहे विश्वासघाती,
कैसे रहता साथ,
कुर्सी थी डगमगाती,
कल था हाथ इसीलिए पकड़ा,
आज इसी ही खातिर,
कल था हाथ इसीलिए छोड़ा,
आज इसी ही खातिर.