Heart Poem – दिल की आवाज – Sound Of Heart

Heart Poem – Love Poem – Sound Of Heart

Heart Poem

खामोश धड़कनों को तू आवाज न देना !
मुहब्बत का नाम लेकर इसे नीलाम न करना! !
गम की इस परछाई को इबादत का नाम मत देना!
दिल की इस सिसकती आवाज को,
संगीत की तान मत देना!!
गर हो सके तो अपनी एक मुस्कान दे देना!
अपनी मुहब्बत को एक पहचान दे देना!!
जमाने के रंगीन बातों में सराबोर हो जाना,

मगर याद रखना मुझे बेकरार मत करना!
होश आये तो लबों से मेरा नाम लेना,
न हो सके ये गुस्ताख़ी तो आँखे बंद करना
और याद कर लेना!!
इस बागीचे में तेरे वास्ते कितने फूल खिलाएं थे मैने,
मै सहम गया जब सारे पौधे मुरझा गये खामोशियों से!
बस एक बार आना मेरे इस गुलिस्ता में आंसू बहा देना!
सींच कर तू इसे फिर से चमन बना देना!!

Spread the love