Learn Poem – दिल से दिल के पास आना – Ghazal Poem In Hindi

Learn Poem – Ghazal Poem In Hindi

Learn Poem

दिल से दिल के पास आना सीखिये,
बुझ गई लौ तो जलाना सीखिये।।

मुतमइन हो के सफ़र मत काटना,
पत्थरों को ही जगाना सीखिये।।

सब समझते होते तो जाते क्यों,
नासमझ हो के नजाना सीखिये ।।

मुुफ़लिसी से उठ के जाना है कहीं
तो दिलों की तरफ जाना सीखिये ।।

इश्क़ करने की तमन्ना है अगर,
तो अभी से दिल चुराना सीखिये ।।

Spread the love