Marriage Poem – सुना है आज से वो – Ghazal Poem About Love

Marriage Poem – Ghazal Poem About Love

Marriage Poem

सुना है आज से वो मुस्कुराने जा रही है,
नई खुशियां नए ख्वाब सजाने जा रही है।।

सुनो ऐ फूल तुम भी काम पर लग जाओ अब,
सुना है वो नई दुनिया बसाने जा रही है।।

दिल मेरा खुश है वो फिर से हँसेगी रात भर,
नए लोगों में नई शुरुआत मनाने जा रही है।।

सुनो ग़ज़ल तुम हमेशा मुस्कुराती रहना,
सुनना मत ज़िन्दगी को, जो भी ये सुनाने जा रही है।।

ढेर सारी खुशबू ढेर सारी दुआएं हैं मेरी भी,
मेरी तरफ से ये तुम को हंसाने जा रही है।।

भूल जाना जो हुआ, वो किसी काम के नहीं,
जाने दो जिन पलों की जाने जा रही हैं।।

सारी दौलत लगा देना खुशियां कमाने में,
देख लो हर तरफ खुशियों की दुकाने जा रहीं हैं।।

बहूत बहूत मुबारकबाद है मेरी तरफ से भी,
मेरी दुआएं तुम्हारे मंडप को सजाने जा रहीं हैं

Spread the love