Unwanted Marriage – अनचाही विवाह – Poem on Marriage in Hindi

Unwanted Marriage – Funny Poem on Marriage

Unwanted Marriage

गई जवानी, रच गई,
कहानी एक दुखांत,
प्रेम परायी हो गई,
मिली परायी प्रेम.

सहज नहीं बिसारना,
गुजरे संग क्षण-पल,
जीना भी दुष्कर हुआ,
रख सहेज उस कल.

इस दलदल में जो फंसे,
भूले बीते बात,
व्यर्थ मनोरथ पालना,
पुनर्मिलन की आश.

चित्त चंचल मत कीजिए,
अब वो है परनूर,
आप के नाम से भी कोई,
मांग भरे सिंदूर.

टूटे सपने की पीड़ा,
आप हीं जाने बेहतर,
आप से हीं सपने सजा,
आई है कोई घर.