Tag: Hindi Short Poems

Kabita in Hindi – सम्भावनाओं में प्रेम – Poem on Love in Hindi

Kabita in Hindi – Poem on Love in Hindi Kabita in Hindi मसीहा कभी चूकता नहीं उसका अत्याचार कर ही लेता है हर बार चुपके से सपनों का शिकार जीने की नाज़ुक ख्वाहिशें फिर भी उग आती हैं व्यवस्था के मरुस्थल में बार बार साज़िशें जब लगातार करतीं हैं अवहेलना ज़िन्दगी में उम्मीद की तब

Short Poem on Life – आवाहन – Poem Of Life

Short Poem on Life – Poem Of Life Short Poem on Life सम्बन्ध सेतु मिल पार करें अपने निश्चय को प्यार करें जीवन जैसा क्या जीवन में साँसें ले रही उबासी हैं समय गुजरता संशय में बिखरी हर ओर उदासी है छीज रही संवेदना सारी आस्तीन की नफ़रत से आने वाला वक़्त भी लगता गुज़रे

Mother Love Poem – माँ की बातें – Poem on Mother in Hindi

Mother Love Poem – Poem on Mother in Hindi Mother Love Poem बातों में जीती है माँ पर अपनी बातें कब कहती है, अवसर निकल जाए हाथों से अपनी बातें तब कहती है, इसकी बातें, उसकी बातें, बातों का भंडार है माँ, माँ बोले उस बुत से केवल जिसको अपना रब कहती है, बातों बातों

Short Poem on Journey – बदलाव का सफ़र – Journey Of Life Poem

Short Poem on Journey – Journey Of Life Poem Short Poem on Journey बे वक़्त वक़्त हो तो सारे बदलते हैं नज़रों के फ़र्क़ से नज़ारे बदलते हैं आग़ाज़े सफ़र कर लो बंद मुट्ठियों का उंगलियों के फ़र्क़ से इशारे बदलते हैं मज़बूर कश्तियों को साहिल नहीं मिलता पतवार के फ़र्क़ से किनारे बदलते हैं

Life Journey Poem – ये सफ़र कौन सा है – Short Poems About Life

Life Journey Poem – Short Poems About Life Life Journey Poem ये शहर कौन सा है ये बसर कौन सा है अजनबी सभी यहाँ ये असर कौन सा है न धूप है न तीरगी ये पहर कौन सा है धड़कनों मे बह रहा ये ज़हर कौन सा है शिकस्त साथ मे लिए ये गुज़र कौन

Lonely Poems – आलम ए तनहाई – Poem on Life in Hindi

Lonely Poems – Poem on Life in Hindi Lonely Poems उँचाइयाँ भी तनहा, हैं गहराइयाँ भी तनहा भीड़ मे रहकर सदा तनहाईयाँ भी तनहा रोशनी के मौसम मे हमकदम हरदम बने आगोश मे अंधेरों के परछाईयाँ भी तनहा जिनके सुरों ने भरा था ज़िंदगी मे रंग को कोने मे रहती पड़ी शहनाईयां भी तनहा भीगते

Hindi Short Poems – सब ख़ैरियत से हैं – Hindi Poem on Zindagi

Hindi Short Poems – Hindi Poem on Zindagi Hindi Short Poems सब ख़ैरियत से हैं दिए ग़म आपके हम भी नही थे किसी से कम आपके परछाईयाँ समेटकर दामन में तीरगी की मेरे पावं चल पड़े थे हम कदम आपके दिल को सुकून होता था सोच कर जिसे उसे देखकर चेहरे पे चढ़ा मातम आपके दिया