Tag: Thought Poetry

Humanity Poem in Hindi – अच्छी बात – Together Poem

Humanity Poem in Hindi – Together Poem Humanity Poem in Hindi बात अच्छी नही है इतना अच्छा होना भी न तो अच्छाइयों के लिए न तो प्रशंशा के लिए और न ही धन्यवाद के लिए थोड़ी नाराज़गी और कुछ असंतोष भी ज़रूरी है रोकने के लिए अच्छाइयों को ठहरा जल बनने से

Deep Thought Poetry – समानधर्मा नहीं होता -Thought Poetry

Deep Thought Poetry – Thought Poetry Deep Thought Poetry भवभूति! आश्चर्य नहीं जो रचना पड़ा समानधर्मा सिद्धांत तुम्हें आखिर करनी जो पड़ी थी तुमको 400 वर्षों से अधिक की कड़ी प्रतीक्षा अपना समानधर्मा पाने के लिए बड़ा मुश्किल है एक जीवन में अपना समानधर्मा पा पाना शूद्रक, डार्विन, टॉलस्टॉय, कीट्स और तुम से न जाने

Thought Poetry – विवेक – Deep Thought Poetry

Thought Poetry In Hindi Thought Poetry पहचाने देख सत्य-असत्य विवेक। ह्रदय में भरे एहसास एक से एक। मंदिर- मस्जिद खुदा का घर है, पाप करने क्यों आया इधर है। देख मुझे वह जगह बता दे, जहां पाप न आए, उसे नजर है। जो ह्रदय में खुदा नहीं, फिर कहीं नहीं वो देख। ह्रदय में भरे